शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

सबका मालिक एक !
















किसी दिन मैं नज़र न आऊँ 
तो मेरे साईं तुम भी मुझे वैसे ही महसूस करना 
जिस तरह मैं करती हूँ 
ईश्वर भक्त की आस्था है 
भक्त ईश्वर का विश्वास ...
इस विश्वास की अखंड ज्योति की बाती बन मैं
कहीं भी रहूँ
तुम मुझे अपने पास
अपने साथ महसूस करना
जिस तरह मैं तुम्हारे नाम का जाप करती हूँ
तुम भी अपनी दुआओं में मेरा नाम लेना
बिलकुल मेरी तरह
सही तो होगा = मुझसे अधिक
ॐ साईं ॐ साईं ॐ साईं
सबका मालिक एक - यानि तू ॐ साईं




1 टिप्पणी:

  1. ॐ साईं ॐ साईं ॐ साईं
    भावनाओं का अनुपम श्रृंगार ...

    उत्तर देंहटाएं